उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

जूस का सैंपल फेल होने पर दस लाख का जुर्माना
Uttarakhand Herald

रुडकी। लीची के जूस का सैंपल फेल होने के मामले में एडीएम ने दुकानदार पर 25 हजार का जुर्माना लगाया है। साथ ही जूस की निर्माता कंपनी और फर्मों पर भी पांच-पांच लाख का जुर्माना किया गया है। एक माह में अदायगी नहीं होने पर राजस्व विभाग जुर्माने की रकम आरोपी फर्मों से वसूल करेगा।

      14 अक्तूबर 2019 में तत्कालीन खाद्य सुरक्षा अधिकारी मंगलौर में दुकानों का निरीक्षण कर रहे थे। इस दौरान उन्हें मदीना जनरल स्टोर पर रखे लीची के डिब्बाबंद जूस पर शक हुआ। उन्होंने दुकानदार से जूस के चार डिब्बे खरीदने के बाद इन्हें नमूने के तौर पर सील कर जांच के लिए रुद्रपुर प्रयोगशाला भेज दिया।

      अगस्त 2020 में प्रयोगशाला से जांच रिपोर्ट आई, जिसके मुताबिक सैंपल गुणवत्ताहीन (सबस्टैंडर्ड) पाए गए। रिपोर्ट आने के बाद खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने जनरल स्टोर के मालिक के अलावा जूस की निर्माता व इसका वितरण करने वाली दो फर्मों के खिलाफ एडीएम (वित्त एवं राजस्व) के न्यायालय में वाद दायर किया था।

      न्यायालय ने आरोपी फर्मों को अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस जारी किए। लेकिन नोटिस तामील करने के बावजूद तीनों में से कोई भी फर्म सुनवाई में शामिल नहीं हुई। मामले में एकपक्षीय सुनवाई करने के बाद एडीएम केके मिश्रा ने गुणवत्ताहीन माल बेचने के मामले में तीनों फर्मों को दोषी करार दिया है।

     उन्होंने जनरल स्टोर संचालक रिजवान अंसारी निवासी मंगलौर पर 25 हजार का जुर्माना लगाया है। साथ ही मेरठ की फर्म वालमार्ट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और चंडीगढ़ में कोहारा की फर्म एशियन लेक्टो इंडस्ट्रिज पर पांच पांच-लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

       एडीएम मिश्रा ने बताया कि आरोपी फर्मों को एक माह के भीतर जुर्माने की अदायगी के आदेश दिए गए हैं। ऐसा न करने पर राजस्व विभाग उनसे जुर्माने की रकम वसूल करेगा।

Share this story