उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

19 मई को होगा श्रद्धालुओं का पहला जत्था हेमकुंड साहिब रवाना
 हेमकुंड साहिब

ऋषिकेश। सिखों के पवित्र धाम हेमकुंड साहिब के लिए श्रद्धालुओं का पहला जत्था तीर्थनगरी ऋषिकेश से 19 मई को रवाना होगा। उत्तराखंड के राज्यपाल गुरमीत सिंह यात्रा का शुभारंभ करेंगे। ऋषिकेश में गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट यात्रा की तैयारियों को अमलीजामा पहनाने में जुट गया है। श्री हेमकुंड साहिब के कपाट 22 मई को ब्रह्ममूहुर्त में खुलेंगे। इसके मद्देनजर ऋषिकेश में लक्ष्मणझूला रोड स्थित गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब ट्रस्ट ने यात्रा की तैयारी शुरू कर दी है। पंजाब समेत अन्य प्रांतों और विदेशों से यात्रा के पहले पड़ाव ऋषिकेश में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के लिए ठहरने आदि की व्यवस्था की गई है। 18 मई से सिख श्रद्धालु गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब में पहुंचने लगेंगे। मैनेजमेंट ट्रस्ट के प्रबंधक सरदार दर्शन सिंह ने बताया कि लक्ष्मणझूला रोड स्थित गुरुद्वारा श्री हेमकुंड मैनेजमेंट ट्रस्ट से 19 मई को पवित्र धाम हेमकुंड साहिब यात्रा का आगाज होगा। इस दिन राज्यपाल गुरमीत सिंह श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को हरी झंडी दिखाकर हेमकुंड साहिब के लिए रवाना करेंगे।

कपाट खुलने का इंतजार कर रहे श्रद्धालु
 ऋषिकेश। कोरोना संकट के चलते दो साल हेमकुंड साहिब धाम की यात्रा स्थगित रही। इस बार हालात सामान्य होने पर यात्रा शुरू हो रही है। पवित्र धाम के दर्शन को श्रद्धालु बेहद उत्साहित हैं, इससे यात्रा में भारी संख्या में श्रद्धालुओं के उमड़ने के आसार हैं। गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट के प्रबंधक के मुताबिक पिछले एक महीने से देश के विभिन्न प्रांतों से ही नहीं विदेशों में बसे श्रद्धालुओं के लगातार फोन आ रहे हैं, जो पवित्र हेमकुंड साहिब धाम के कपाट खुलने और यात्रा संबंधी जानकारी ले रहे हैं। सभी देवभूमि उत्तराखंड में आने को तैयार हैं। श्रद्धालुओं की आस्था से लगता है कि इस बार यात्रा का रिकॉर्ड टूटेगा। संभावित भीड़ को देखते हुए मैनेजमेंट ट्रस्ट तैयारी कर रहा है।
 

16 मई को खुलेगा फोटो पंजीकरण काउंटर
लक्ष्मणझूला रोड स्थित गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट परिसर में 16 मई को फोटो पंजीकरण काउंटर खुलेगा। लिहाजा देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को पंजीकरण के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ेगा। गुरुद्वारा में ही पंजीकरण की सुविधा मिलेगी।

Share this story