उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

आशा कार्यकर्ताओं ने किया पीएचसी त्यूणी पर धरना प्रदर्शन
आशा कार्यकर्ताओं ने किया पीएचसी त्यूणी पर धरना प्रदर्शन

विकासनगर। राज्य कर्मचारी घोषित किए जाने के साथ बारह सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने पीएचसी त्यूणी पर धरना प्रदर्शन किया। आशाओं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए मांगों के निस्तारण की मांग की। इस दौरान पीएचसी प्रभारी के समझाने के बावजूद आशाएं धरने पर डटी रही।

     बुधवार सुबह जनपद के सीमांत क्षेत्र त्यूणी तहसील की 60 से अधिक आशा वर्कर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एकत्र हुए। उन्होंने दो अगस्त से चल रहे अपने आंदोलन को उग्र रूप देते हुए पीएचसी परिसर में धरना प्रदर्शन किया। आशाओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए विरोध जताया। ब्लॉक अध्यक्ष रोशनी देवी ने बताया कि आशा कार्यकर्ता 12 सूत्रीय मांगों को लेकर दो अगस्त से आंदोलन कर रही हैं।

     इसी क्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को भी ज्ञापन भेजा गया था। लेकिन प्रदेश सरकार उनकी मांगों के प्रति कोई गंभीरता नहीं दिखा रही है। इसके बाद आशाओं ने धरना प्रदर्शन के माध्यम से प्रदेश सरकार का ध्यान आशाओं को राज्य कर्मचारी घोषित करने, 21 हजार रुपये मानदेय, कोविड काल में सीएम घोषणा के दस हजार, पेंशन, स्वास्थ्य बीमा, परिवार की सुरक्षा आदि मांगों पर खींचा। आशाओं ने चेतावनी दी कि जब तक उनकी मांगों का निस्तारण नहीं होगा, आंदोलन जारी रहेगा।

   आशाओं ने निर्णय लिया कि प्रत्येक दिन पंद्रह-पंद्रह आशाएं अस्पताल परिसर में धरना प्रदर्शन करेंगी। इस दौरान पीएचसी प्रभारी डॉ. नरेन्द्र राणा ने धरना स्थल पर आकर आशाओं से वार्ता भी की। उन्होंने आशाओं को समझाने का बहुत प्रयास किया। लेकिन आशाएं मांगें पूरी न होने तक आंदोलन जारी रखने के निर्णय पर डटी रही।

    धरने में सचिव शालू, रेखा क्षेत्री, उकिला शर्मा, बबीता शर्मा, रीना, दीपमाला, उजला डिमरी, कोकिला, चन्द्र कला, रेखा चौहान, प्रतिमा, प्रभा, रीटा, सुरेशी, सबिता, रीना शर्मा आदि आशाएं शामिल रही।

Share this story