उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

होटलों का भवन कर पूर्व की भांति रखने की मांग की
होटलों का भवन कर पूर्व की भांति रखने की मांग की

ऋषिकेश। नगर निगम प्रशासन द्वारा होटलों का भवन कर बढ़ाए जाने से होटल व्यवसायी परेशान हैं। होटल व्यवसायियों ने विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के समक्ष मामला उठाया है। उन्होंने वर्ष 2019-20, 2020-21 एवं 2021-22 का भवन कर पूर्व की भांति जमा करने देने की मांग की है।

    मंगलवार को बैराज कैंप कार्यालय में होटल एसोसिएशन ऋषिकेश के प्रतिनिधिमंडल ने विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल से मुलाकात की। होटल व्यवसायियों ने बताया कि नगर निगम प्रशासन द्वारा ऋषिकेश स्थित होटलों के वर्ष 2019-20 और 2020-21 के भवन कर को बेतहाशा बढ़ा दिया गया है। 2018-19 में उक्त भवन कर मात्र 25 हज़ार रुपये लगभग था, जो अब बढ़ाकर 4 लाख रुपये कर दिया गया है। वर्तमान में कोरोना महामारी को देखते हुए होटल व्यवसाय के साथ यह अन्याय है। कोरोना महामारी के कारण बीते 2 वर्षों से उत्तराखंड का होटल व्यवसाय लगभग ठप पड़ा हैं। इसकी वजह से होटल व्यवसायी राज्य करों का भुगतान करने में असमर्थ हैं।

     उन्होंने कहा कि होटलों को वर्ष 2019-20 व 2020-21 एवं 2021-22 में भवनकर को पूर्व की भांति ही जमा करने की अनुमति दी जाए। विस अध्यक्ष ने होटल व्यवसायियों की समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया। मौके पर होटल एसोसिएशन ऋषिकेश के अध्यक्ष मदन गोपाल नागपाल, महामंत्री भगवती प्रसाद रतूड़ी, अंशुल अरोड़ा, अमर बेलवाल, राजीव शर्मा, सागर तनेजा, राकेश गुप्ता, अमित उप्पल, भवानीशंकर व्यास, चरणजीत अरोड़ा, आनंद रावत आदि उपस्थित रहे।

Share this story