उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

पतरामपुर वन छेत्र में टाइगर सफारी बनाने की कवायद में जुटी सरकार
उत्तराखंड हेराल्ड

जसपुर।  सब कुछ ठीक ठाक रहा तो वह दिन दूर नहीं ज़ब रामनगर (नेनीताल) की तरहं जसपुर भी पर्यटन गतिविधि के लिए राष्ट्रीय स्तर पर पहचाना जायगा। देश दुनिया से लोग जसपुर पहुंचा करेंगे, क्योंकि सरकार पश्चिम वन प्रभाग में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाने के लिए एक बड़ी योजना पर काम कर रहीं है।

      यानि के सरकार पतरामपुर वन छेत्र मे टाइगर सफारी बना ने की कवायद को अमली जामा पहनाने मे जुटी है। इस योजना के धरातल पर उतरने के बाद जसपुर के विकास को तो पँख लगे गे ही वहीं पर्यटकों के साथ साथ जसपुरवासी भी टाइगर का दीदार कर सकेंगे।

         बताया जा रहा हे कि जसपुर के पतरामपुर क्षेत्र में करीब 123.75 हेक्टेयर भूमि पर टाइगर सफारी बनाने का निर्णय लिया गया है। इसमें 20 बाड़े बाघों के लिए, 20 गुलदार व 30 बाड़े हिरनों के लिए बनाए जाएंगे। एक हेक्टेयर में विभिन्न प्रजाति के सांपों को रखने की व्यवस्था की जाएगी। यह प्रदेश की पहली टाइगर सफारी होगी। तराई पश्चिम वन प्रभाग में फाटो रेंज के बाद अब टाइगर सफारी बनाने पर काम किया जा रहा है।
      डीएफओ बलवंत शाही ने बताया कि वन प्रभाग का जंगल पर्यटन गतिविधियों के लिए बेहतर है। फाटो रेंज को पर्यटकों के लिए तैयार किया जा चुका है। वहीं अब जसपुर रेंज के पतरामपुर में 123.75 हेक्टेयर में टाइगर सफारी बनाने की रूपरेखा तय कर ली गई है। इसमें बाघ, गुलदार और हिरन के बाड़ों के अलावा गार्डन, म्यूजियम, पार्किंग आदि की भी व्यवस्था की जाएगी। वन्यजीवों व सांपों के भोजन की व्यवस्था भी टाइगर सफारी में ही होगी। बाड़ों में रखे जाएंगे वन्यजीव जंगल से रेस्कयू कर वन जीवयो को बड़ो मे रखा जायगा।
         वनाधिकारियों की माने तो जसपुर के पतरामपुर में बनने वाली टाइगर सफारी के लिए बाघ, गुलदार व अन्य वन्यजीवों को जंगल से ही रेस्क्यू कर बाड़ों में रखा जाएगा। बाघ, गुलदार को ट्रैंकुलाइज किया जाएगा। बताया कि वन्यजीवों पर नजर रखने को एक टीम का भी गठन होगा। डीएफओ बलवंत शाही ने बताया कि विदेशों में टाइगर सफारी कराई जाती है। बताया कि जाली लगे वाहनों में पर्यटक बैठकर वन्यजीवों का दीदार करते हैं। उन्होंने बताया कि जसपुर में बनने वाली टाइगर सफारी का क्षेत्रफल काफी बड़ा होगा।
            पर्यटकों को वाइल्ड लाइफ के बारे मे मिलेगी जानकारी :बलवंत शाही तराई पश्चिम वन प्रभाग के डीएफओ ने बताया कि तराई पश्चिम वन प्रभाग में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाया जा रहा है। इससे पर्यटकों को वाइल्ड लाइफ के बारे में जानकारी मिलेगी तो स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। टाइगर सफारी बनने के बाद तराई पश्चिम वन प्रभाग का ओहदा बढ़ेगा। पर्यटकों व वन्यजीवों की सुरक्षा पुख्ता की जाएगी।

Share this story