उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

अनुबंध निरस्त कराने को अस्पताल की छत पर चढ़ी प्रदर्शनकारी महिलाएं
अनुबंध निरस्त कराने को अस्पताल की छत पर चढ़ी  प्रदर्शनकारी महिलाएं

ऋषिकेश।  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोईवाला का अनुबंध निरस्त करने की मांग को लेकर यूकेडी अब उग्र आंदोलन पर उतर आई है। शुक्रवार को मांग को लेकर आंदोलनरत महिलाएं स्वास्थ्य केंद्र की छत पर चढ़ गईं। पुलिस बल ने समझा बुझा कर महिलाओं को नीचे उतारा। शुक्रवार को डोईवाला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के समक्ष यूकेडी कार्यकर्ताओं का धरना 31 वें दिन भी जारी रहा।

      शुक्रवार को प्रदर्शनकारी महिलाएं अस्पताल की छत पर जा बैठी। उन्होंने कहा कि अगर उनकी मांगों पर कोई सुनवाई नहीं हुई तो वे छत से छलांग लगा देंगी। जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन और सरकार की होगी। सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंचा। पुलिस बल ने किसी प्रकार से छत पर चढ़कर महिलाओं को मनाने का प्रयास किया। काफी समझाने पर भी महिलाएं जिद पर अड़ी रही। बहुत समझाने के बाद किसी प्रकार से महिलाएं नीचे उतरी।

     यूकेडी महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष सुलोचना ईष्टवाल ने चेतावनी दी कि यदि सरकार ने संज्ञान नहीं लिया तो महिलाएं आत्मदाह करने का कदम उठाएंगी। यूकेडी युवा मोर्चा की जिला अध्यक्ष सीमा रावत ने कहा कि यह अस्पताल ट्रेनी डॉक्टरों की प्रयोगशाला बन चुका है, आए दिन मरीजों की मौत हो जाती है। यूकेडी के जिला अध्यक्ष संजय डोभाल ने कहा कि आए दिन गलत इलाज से कई लोगों की जान जाने से बेहतर है, कि वे स्वयं ही आत्मदाह कर लें।

      केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि 31 दिनों से आंदोलन चल रहा है। लेकिन सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है। मजबूरन प्रदर्शनकारियों को इस प्रकार के कदम उठाने पड़ रहे हैं।

       प्रदर्शन करने वालों में संजू कृषाली, मंजू रावत, कलावती, सुधा बिष्ट, शालिनी, हेमलता, सरस्वती, कविता गुसाईं, मीना थपलियाल, सविता श्रीवास्तव, मंजू रावत, सरोज रावत, चंपा देवी, राधा देवी, आशा पुंडीर, दीपा राणा, रामेश्वरी नौटियाल, भारती देवी, गीता देवी, गोमती, कलावती, भावना मैठाणी, कमला देवी, सुधा देवी, मीना नौटियाल आदि शामिल रहे।

Share this story