उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

15 दिन बाद भी नहीं सुनी जा रही राजस्व निरीक्षकों मांग
15 दिन बाद भी नहीं सुनी जा रही राजस्व निरीक्षकों मांग

बागेश्वर। राजस्व निरीक्षक, उप निरीक्षकों ने तहसील परिसर पर धरना दिया। उन्होंने का कि 15 दिन बाद भी शासन-प्रशासन ने उनकी सुध नहीं ली है।वह लंबित मांगों के निराकरण को लेकर आंदोलित हैं। शासन ने उन्हें आश्वासन भी दिया लेकिन कार्रवाई नहीं हो सकी है।

     गुरुवार को को गरुड़, कांडा, काफलीगैर, कपकोट और बागेश्वर तहसील परिसरों पर पटवारियों ने प्रदर्शन किया। उन्होंने नारेबाजी की और धरना दिया। उन्होंने कहा कि पिछले दो सप्ताह से वह हड़ताल पर हैं। ग्रामीण क्षेत्र की सुरक्षा व्यवस्था राम भरोसे है। भूमि और अन्य प्रमाणपत्रों के लिए उन्हें ग्रामीणों के फोन आ रहे हैं। भूमि खरीद आदि भी नहीं हो पा रही है। कई खरीदारों के रजिस्ट्रेशन रुके हुए हैं। उसके बावजूद भी सरकार नहीं जाग रही है। लोग यदि परेशान रहे तो इसका खामियाजा सरकार को ही भुगतना पड़ेगा।

    जिलाध्यक्ष जगदीश परिहार ने कहा कि सरकार ने उनसे वादा किया था कि उनकी मांग पूरी होगी, लेकिन अब तक मांग पूरी नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा संघों की आपसी सहमति के आधार पर संगठन की आपत्ति के बाद भी एकीकरण का प्रस्ताव तैयार किया है। इस दौरान उन्होंने 16 वें बैच के राजस्व निरीक्षक प्रशिक्षण व राजस्व निरीक्षक क्षेत्रों के पुनर्गठन पर कार्रवाई न होने पर भी नाराजगी जताई, साथ ही समान कार्य के लिए समान वेतन दिए जाने की मांग की।

     इस मौके पर कुंदन सिंह मेहता, सुरेंद्र कुमार, सुरेश सिंह राठौर, प्रवीण सिंह टाकुली, रमेश चंद्र, भगवती जोशी, मनोज कुमार, पप्पू लाल आदि मौजूद थे।

Share this story