उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

मेजर ध्यान चंद खेल विश्वविद्यालय का पीएम ने किया शिलान्यास
मेजर ध्यान चंद खेल विश्वविद्यालय का पीएम ने किया शिलान्यास

मेरठ। उत्तरप्रदेश के मेरठ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज मेजर ध्यान चंद खेल विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया। करीब सात सौ करोड़ की लागत से तैयार होने वाले इस विश्वविद्यालय को योगी आदित्यनाथ सरकार ने करीब ढाई वर्ष में तैयार करने का लक्ष्य रखा है। पीएम मोदी ने इस अवसर पर खेल प्रदर्शनी का अवलोकन करने के साथ कुछ उपकरणों पर अपना हाथ भी आजमाया। उन्होंने खेल विश्वविद्यालय के शिलान्यास के बाद अपने 43 मिनट के संबोधन में खेल विवि और मेरठ की क्रांतिकारी धरती के बारे में खुलकर बोले।

         नई दिल्ली में मौसम खराब होने के कारण वह सडक़ मार्ग से मेरठ पहुंचे। मेरठ आगमन पर भगवान औघडऩाथ का दर्शन-पूजन करने के साथ ही उन्होंने कालीघाट में शहीद स्मारक का भी अवलोकन किया। सरधना तहसील क्षेत्र के गांव सलावा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मेजर ध्यानचंद खेल विश्वविद्यालय का शिलान्यास कि। इस अवसर पर जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि प्रदेश में पूर्व की सरकारों में अपराधी अपना खेल खेलते थे, माफिया अपना खेल खेलते थे। तब भ्रष्टाचार का टूर्नामेंट होता था। प्रदेश में अब योगी आदित्यनाथ सरकार में असली खिलाडिय़ों को बढ़ावा दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने वहां पर लोगों को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ तथा पहले की सरकार के कामकाज के फर्क को खेल से जोड़ते हुए समझाया।

         प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रदेश में 2017 से पहले की सरकारों के कार्यकाल में प्रदेश में अपराधी और माफिया अपना-अपना खेल खेलते थे। पहले तो यहां अवैध कब्जे के टूर्नामेंट होते थे, बेटियों पर फब्तियां कसने वाले खुलेआम घुमते थे, मेरठ के आसपास के लोग भूल नहीं सकते कि माफिया लोग तो उनके घर जला दिया करते थे। पहले की सरकार अपने खेल में लगी रहती थी। उस खेल का नतीजा था कि लोग पलायन को मजबूर हो गए। अब योगी आदित्यनाथ की सरकार उनके साथ जेल-जेल खेल रही है। पांच साल पहले इसी मेरठ की बेटियां शाम होने के बाद अपने घर से निकलने से डरती थीं, आज मेरठ की बेटियां पूरे देश का नाम रोशन कर रही है। मेरठ के सोतीगंज बाजार में गाडिय़ों के साथ होने वाले खेल का भी एंड हो रहा है। अब यूपी में असली खेल को बढावा मिल रहा है, अब तो यूपी के युवओं को खेल की दुनिया में छा जाने का मौका मिल रहा है।

        प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरठ की उर्जावान तथा क्रांतिकारी भूमि का लोगों ने दुरुपयोग किया। युवाओं को लक्ष्य से भटकाया। अब ऐसा नहीं हो पा रहा है। प्रदेश में डबल इंजन की सरकार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पांच साल पहले जो अपराधी यहां अपराध का खेल खेलते थे, आज योगी आदित्यनाथ सरकार उन माफिया के साथ जेल-जेल खेल रही है। पहले तो यहां पर अवैध कब्जे के टूर्नामेंट होते थे, लोग अपना घर छोडक़र पलायन करते थे, अब ऐसा नहीं हो रहा है। लोग घर वापस लौट रहे हैं।

मेरठ को बताया गौरवशाली धरती
      प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत माता की जय के साथ संबोधन शुरू करने के साथ ही सभी लोगों को वर्ष 2022 की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि वर्ष की शुरुआत में ही मेरठ आना सौभाग्य की बात है। मेरठ का इतिहास काफी गौरवशाली है। मेरठ ने देश की आस्था को ऊर्जावान किया है। सिंधु घाटी की सभ्यता से लेकर पहले स्वतंत्रता संग्राम तक इस धरती ने दिखाया है देश का गौरव क्या होता है। मेरा सौभाग्य है कि मैं भगवान औघडऩाथ मंदिर व शहीद स्मारक गया। पीएम मोदी ने कहा कि 1857 की क्रांति में मेरठ ने नई दिशा दी। आज हम गर्व से आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। राष्ट्र रक्षा के लिए, सीमा पर बलिदान हो या फिर खेल के मैदान में राष्ट्र के लिए सम्मान। इस क्षेत्र ने सदा अपनी लौ को प्रज्ज्वलित रखा है। भारत के इतिहास में मेरठ का स्थान केवल एक शहर का नहीं। यह हमारी संस्कृति का अहम केंद्र है। नूरपुर मढिया ने चौधरी चरण सिंह जैसा विजिनरी नेता दिया। देश की शान मेजर ध्यानचंद की कर्मस्थली मेरठ भी रहा है। हमने खेल के सर्वोच्च पुरस्कार का नाम दददा के नाम कर दिया गया। उनके नाम में एक संदेश है, ध्यान। बिना ध्यान केन्द्रित करे किसी को कभी भी सफलता नहीं मिलती है। जिसका नाम मेजर ध्यानचंद से जुड़ा हो वहां के खिलाड़ी अब तो देश का नाम रोशन करेंगे। देश के पहले खेल विवि की बधाई। सात सौ करोड से बनने वाला यह विवि दुनिया का शानदार विवि बनेगा। यहां से हर साल एक हजार से अधिक खिलाड़ी निकलेंगे।

युवाओं पर फोकस पीएम मोदी
       उन्होंने कहा कि साथियों हमारे यहां कहा जाता है, जिस पथ पर महान जन महान विभूतियां चलें वही हमारा पथ है लेकिन अब हिंदुस्तान बदल चुका है हम इक्कीसवी सदी में है। इस समय सबसे बड़ा दायित्व युवाओं के पास है। मत बदल गया। जिस मार्ग पर युवा चल रहे वहीं मार्ग देश का मार्ग है। जिधर युवाओं के कदम बढ जाएं मंजिल कदम चूमने लगती है। युवाओं पर फोकस करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि युवा नए भारत का कर्णधार है, युवा नए भारत का नेतृत्वकर्ता है। मेरठ में होने वाले दंगल और उसमें घी के पीपे और लड्डू का पुरस्कार मिलता है। ऐसे में किसका मन मैदान में उतरने का न हो। पहले की सरकार की नीतियों का खेल के प्रति नजरिया अलग रहा। शहरों में जब कोई युवा अपनी पहचान बताता था तो सामने वाले पूछते थे कि अरे बेटे खेलते हो ये तो ठीक है, पर काम क्या करते हो। खेल की इज्जत नहीं मानी जाती थी। खेल के प्रति सोच सीमित हो गई थी। यह तो सरकारों का दायित्व था कि खेल के प्रति सोच बदलें, लेकिन हुआ उल्टा हुआ।

      पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हम लोग खेल और खिलाड़ी को विशिष्ट पहचान दिलाने में लगे हैं। इसमें विलम्ब हो रहा है, हमसे पहले की सरकार इसको लेकर गंभीर नहीं थीं। उन्होंने कहा कि यहां पर तो ट्रेनिंग से लेकर टीम सलेक्शन पर हर स्तर पर भाई भतीजावाद भ्रष्टाचार और भेदभाव होता था। पारदर्शिता नहीं थी। हाकी उदाहरण है। हर खेल की यही कहानी थी। बदलती खेल सुविधाओं के बीच सरकार सुविधाए मुहैया नहीं कर पाई। 2014 के बाद हमने हर स्तर पर काम किया। हमारी सरकार ने अपने खिलाडियो को चार शस्त्र दिए है। सुविधाएं, ट्रेनिंग, इंटननेशनल स्तर पर एक्पोजर, चयन में पारदार्शिता। पीएम ने कहा कि हमने खिलाडिय़ों को रोजगार से जोडा। आज सरकार देश के शीर्ष खिलाडिय़ों को डाइट के साथ ट्रेनिंग के लिए आर्थिक मदद दे रही है। खेलो इंडिया के माध्यम से टेलेंट की पहचान की जा रही है। इंटरनेशनल खिलाड़ी बनाने के लिए हर संभव मदद की जा रही है। आज हमारे खिलाड़ी का प्रदर्शन दुनिया देख रही है। आप लोगो ने ओलिंपिक में देखा, पैरालिंपिक में देखा। प्रधानमंत्री ने कहा कि खेलों के लिए जरूरी है कि हमारे युवाओं में विश्वास पैदा हो। खेल को रोजगार बनाने का हौसला बढ़े। मैं चाहता हूं कि जिस तरह दूसरे प्रोफेशन है ऐसे ही खेल को भी देखें। जो भी खेल में जाएगा वह जरूरी नहीं की दुनिया में नंबर वन बनेगा लेकिन खेल से जुडे अन्य क्षेत्रों में जाने के लिए एक सिस्टम बनाया जा रहा है। अगर खेलों के लिए जरूरी संशाधन होगे तो खेल संस्कृति आकार लेगी। उन्होंने कहा कि खेल विवि जरूरी है। यह खेल की संस्कति के लिए नर्सरी का काम करती है। पीएम ने कहा कि 2018 में पहला खेल विवि मणिपुर में खोला गया अब मेरठ में आज मेजर ध्यान चंद खेल विवि खेल में हायर ऐजूकेशन का एक और सेंटर मिला है।

लाखों करोड़ का खेल का वैश्विक बाजार
       प्रधानमंत्री ने कहा कि खेल से जुड़ी सर्विस और बाजार का वैश्विक बाजार लाखों करोड रुपये का है। मेरठ से ही सौ से अधिक देशों को खेल का सामान जा रहा है। मेरठ तो लोकल को ग्लोबल बना रहा है। मकसद यह है कि खेल के उत्पादक में भी देश आत्मनिर्भर बन सके। पीएम मोदी ने कहा कि पढ़ाई में खेल अब दूसरे विषय के बराबर है। यूपी के युवाओं में इतनी प्रतिभा है कि आसमान भी छोटा पड़़ जाए।
डबल इंजन सरकार का लाभ ले रहा है उत्तर प्रदेश

         प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपी में डबल इंजन सरकार कई विवि की स्थापना कर रही है। गोरखपुर में आयुष तो प्रयागराज में विधि विवि, लखनऊ में फोरेंसिंक साइंस तो सहारनपुर में मां शाकुभरी विवि और मेरठ में खेल विवि। हमारा ध्येय साफ है कि हमारा युवा रोल माडल बने ओर पहचाने भी। इनको योग्य होने पर बढावा दें लेकिन गलतियां होने पर यह न कहें कि लड़क़ों से गलती हो जाती है। योगी सरकार रिकार्ड भर्ती कर रही है। विभिन्न योजनाओं में युवाओं को लाभ मिला है। टैबलेट और स्मार्ट फोन दे रही है। स्वामित्व योजना के तहत केन्द्र सरकार गांव में लोगों को मालिकाना हक का घरौनी दिला रही है। इससे बैंकों से आसानी से मदद मिल पाएगी। समाज के हर वर्ग को अवैध कब्जे से मुक्ति मिलेगी।

किसानों के हित में काफी काम
        प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि योगीजी की सरकार में जिताना गन्ना भुगतान दिया, उतना पिछली दोनों सरकारों ने नहीं दिया। किसानों के बैंक खातों में रकम दी गई है। चीनी मिल कौडियों के मोल बेची गईं, भ्रष्टाचार हुआ। योगीजी की सरकार में मिल बंद नहीं होतीं उनका विस्तार होता है। नई मिल खोली जाती हैं। यूपी गन्ने से बनने वाले ऐथेनाल में भी आगे बढ रहा है। 12 हजार करोड़ का ऐथेनाल यूपी से खरीदा गया है। ग्रामीण स्तर पर भंडारण पर एक लाख करोड रुपये खर्च किए जा रहे हैं।

प्रदेश को एकसप्रेसवे की सौगातें
        प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरठ एक्सप्रेस वे से दिल्ली का सफर एक घंटे का हो गया है। मेरठ से ही गंगा एक्सप्रेस वे भी शुरू होगा। मेरठ में मेट्रो और रैपिड रेल भी दौड़ेगी। मेरठ में आइटी पार्क का भी लोकापर्ण हो गया है। रेवडी, गजक, हैडलूम, ब्रास बैंड, आभूषण ऐसे कारोबार मेरठ की शान हैं। यही डबल इंजन की सरकार की पहचान है। इस पहचान को और सशक्त करना है। पश्चिम के लोग जानते हैं उधर हाथ लंबा करोगे तो योगी लखनऊ में और इधर मैं हूं। विकास की गति को बढ़ाना है, नए साल में नई ऊर्जा के साथ आगे बढेगे। एक बार फिर आपको मेजर ध्यान चंद विवि की बधाई।

        सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार जताते हुए पीएम के सडक़ मार्ग से नई दिल्ली से मेरठ आने का जिक्र किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के पहले खेल विवि का नाम मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखा गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने टोक्यो ओलिंपिक और पैरालिंपिक में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों का सम्मान किया। इसके साथ ही हमने गांवों में जिम, खेल मैदान प्रदेश सरकार ने दिया। प्रदेश की सरकार ने कांवड़ यात्रा को फिर से शुरू कराया और महिलाओं को सुरक्षा मुहैया कराई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सरधना में मेजर ध्यान चंद खेल विश्विद्यालय के प्रांगण में शिलान्यास कार्यक्रम में पहुंचने पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने उनका स्वागत किया।

        प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कार्यक्रम स्थल पर खिलाडिय़़ों से बातचीत के बाद मेरठ में बनने वाले विभिन्न खेल उत्पादों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस दौरान पीएम खेल कंपनियों के प्रत्येक स्टाल पर गए और खेल उत्पादों की बारीकी से जानकारी ली। पीएम ने एक स्टाल पर कसरत भी की। उनके साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी मौजूद रहे।

Share this story