उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

4 महीने में उत्तराखंड के तीसरे मुख्यमंत्री होंगे पुष्कर सिंह धामी
Pushkar Singh Dhami

देहरादून।: पुष्कर सिंह धामी बने उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री नियुक्त किए गए हैं। बीजेपी की विधायक दल की बैठक में यह निर्णय लिया है। गौरतलब है कि उत्तराखंड में पैदा हुए संवैधानिक संकट के बीच पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 10 मार्च को मुख्यमंत्री का पद संभाला था, चार माह से भी कम समय तक पद पर रहने के बाद, संवैधानिक बाध्यता के तहत शुक्रवार देर रात राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को अपना इस्तीफा सौंप दिया। 

       सीएम के रेस में प्रदेश के बड़े बड़े सियासी सुरमाओं का नाम था। सतपाल महाराज, धन सिंह रावत, बिशुन सिंह चुफाल, रमेश पोखरियाल निशंक जैसे दिग्गज सीएम की रेस में आगे चल रहे थे। ऐसे में इन सबको दरकिनार करते हुए बीजेपी ने विधान मंडल की बैठक में खटीमा से विधायक पुष्कर सिंह धामी के नाम पर मुहर लगा दी और यह तय हो गया कि धामी ही प्रदेश के अगले सीएम होंगे। 

     आईये एक नजर पुष्कर सिंह धामी की राजनीति सफरनामा पर डालते हैं, जिसकी वजह से उन्हें अगला सीएम के रूप में चुना गया।  उत्तराखण्ड के अति सीमांत जनपद पिथौरागढ़ की ग्राम सभा टुंडी, तहसील डीडीहाट में उनका जन्म हुआ। सैनिक पुत्र होने के नाते राष्ट्रीयता, सेवा भाव एवं देशभक्ति को ही उन्होंने धर्म के रूप में अपनाया. आर्थिक अभाव में जीवन यापन कर सरकारी स्कूलों से प्राथमिक शिक्षा ग्रहण की। तीन बहनों के पश्चात अकेला पुत्र होने के नाते परिवार के प्रति जिम्मेदारियां हमेशा बनी रहीं। इन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से अपनी उच्च शिक्षा हासिल की. धामी पोस्ट ग्रेजुएट हैं। व्यावसायिक शिक्षा में उन्होंने मानव संसाधन प्रबंधन और औद्योगिक संबंध के मास्टर डिग्री ली है। लखनऊ विश्वविद्यालय में धामी छात्र समस्याओं को उठाने के लिए जाने जाते थे। 1990 से 1999 तक वो विभिन्न पदों पर रहे। पुष्कर सिंह धामी के खाते में लखनऊ में राष्ट्रीय सम्मेलन के संयोजक और संचालक होने की उपलब्धि दर्ज है। साथ ही वे यूपी के जमाने में प्रदेश महामंत्री भी रहे। इसी क्रम में 2005 में प्रदेश के युवाओं को जोड़कर विधान सभा का घेराव हेतु एक ऐतिहासिक रैली आयोजित की गयी। जिसे युवा शक्ति प्रदर्शन के रूप में उदाहरण स्वरूप आज भी याद किया जाता है

Share this story