उत्तराखंड हेराल्ड

Breaking news, Latest news Hindi, Uttarakhand & India

उत्तराखंड पुलिस ने लक्ष्य नशा मुक्त उत्तराखंड एप लांच
Uttarakhand Herald
ऐसे करें एप को डाउनलोड
- मोबाइल एप को गूगल, प्लेस्टोर से डाउनलोड करें।
- एप के माध्यम से सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाता है।
- एप नारकोटिक ड्रग्स के हानिकारक प्रभावों के बारे में जागरूक करता है।
- एप माता-पिता, शिक्षक, छात्रों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी सूचीबद्ध करता है।
- नारकोटिक कानून के बारे में एमजीआर तथ्य

बागेश्वर। मादक पदार्थों की तस्करी, बिक्री, खेती को रोकने के लिए उत्तराखंड पुलिस ने लक्ष्य नशा मुक्त उत्तराखंड एप लांच किया है। इस एप को डाउनलोड कराने के लिए जागरूकता शिविर आयोजित किए जा रहे हैं। इसमें दी जाने वाली सूचनाओं में शिकायतकर्ता का नाम गोपनीय रखा जाएगा। अलबत्ता पुलिस तत्काल एक्शन कर तस्कर व तस्करी पर शिकंजा कसेगी।

      लक्ष्य नशा मुक्त उत्तराखंड एप डाउनलोड करने के बाद उसमें दिए हेल्पलाइन नंबर पर कॉल के साथ ही फेसबुक, व्हाट्सएप के माध्यम से सूचना दी जा सकती है। इतना ही नहीं एप में दिए गए दिशा निर्देश का पालन कर नशा उपयोग करने वाले की पहचान भी की जा सकती है। जिससे किसी स्वजन के नशे का आदी होने की जानकारी भी मिलने पर सही समय पर कार्रवाई की जा सकेगी।

नशा मुक्त उत्तराखंड एप में डाल सकेंगे फोटो
     एप में व्यक्ति अपनी पहचान गुप्त रख सकता है। नशे से सबंधित अवैध बिक्री, तस्करी, भांग, अफीम की खेती की सूचना फोटो समेत जिला, राज्य की एंटी ड्रग्स टास्क फोर्स के हेल्पलान नंबर 0135-2656202 या व्हाट्सएप नंबर 9412029536 के माध्यम से दे सकता है।

ऐसे करें एप को डाउनलोड
- मोबाइल एप को गूगल, प्लेस्टोर से डाउनलोड करें।
- एप के माध्यम से सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाता है।
- एप नारकोटिक ड्रग्स के हानिकारक प्रभावों के बारे में जागरूक करता है।
- एप माता-पिता, शिक्षक, छात्रों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी सूचीबद्ध करता है।
- नारकोटिक कानून के बारे में एमजीआर तथ्य

    उत्तराखंड में नशामुक्ति पुन: स्थिरीकरण केंद्रों के बारे में जानकारी। एप के प्रति जागरूक करने के लिए इसका प्रचार किया जा रहा है। जिससे लोग स्मार्टफोन में एप डाउनलोड कर नशे के खिलाफ मुहिम में पुलिस का सहयोग कर सकें। लोगों को लक्ष्य एप को डाउनलोड करना चाहिए। पुलिस हेल्पलाइन नंबर 155260 के बारे में भी जानकारी दी जा सकती है। - अमित श्रीवास्तव, एसपी, बागेश्वर।

Share this story